Adani Group : मेटल इंडस्ट्री में अडानी ग्रुप की धमाकेदार एंट्री, अपने नाम की ये बड़ी डील

डेस्क : भारत के मशहूर बिजनेसमैन गौतम अडानी के समूह ने इंडस्ट्रियल मेटल के लिए दुनिया के सबसे बड़े सिंगल लोकेटर स्मेल्टर के लिए प्रति वर्ष 1.6 मिलियन टन तांबा खरीदने की डील पर साइन किया है. आपको बता दे की स्मेल्टर का मतलब होता है की जिस प्रोसेस के जरिए अयस्क को धातु में बदला जाता है. अगले महीने परिचालन शुरू करने वाला स्मेल्टर,औद्योगिक धातु के लिए दुनिया की सबसे बड़ी एकल-स्थान सुविधा होगी.

रिपोर्ट के अनुसार, 500,000 टन की क्षमता वाली सुविधा का पहला चरण अगले महीने काम करना शुरू कर देगा और भारत की तांबे की बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए मार्च 2029 तक इसे 1 मिलियन टन तक विस्तारित करने की योजना है। समूह का लक्ष्य संसाधनों की स्थिर आपूर्ति सुनिश्चित करना है और पूंजीगत व्यय फिर से शुरू कर रहा है.

1.2 अरब डॉलर की लागत वाले मुंद्रा संयंत्र से तांबे के आयात पर भारत की निर्भरता कम होने और देश को स्वच्छ ऊर्जा स्रोतों की ओर बढ़ने में मदद मिलने की उम्मीद है। वित्तीय वर्ष 2029 तक इसकी पूर्ण क्षमता 1 मिलियन टन तक पहुंचने का अनुमान है.

अडानी एंटरप्राइजेज लिमिटेड की सहायक कंपनी कच्छ कॉपर लिमिटेड मुंद्रा में एक नई कॉपर रिफाइनरी परियोजना विकसित कर रही है। परियोजना के पहले चरण को जून 2022 में एक सिंडिकेटेड क्लब ऋण के माध्यम से वित्तीय सहायता प्राप्त हुई.

अडानी समूह का लक्ष्य तांबा उद्योग में वैश्विक नेता बनना है और 2030 तक दुनिया का सबसे बड़ा तांबा गलाने वाला कॉम्प्लेक्स बनाने का लक्ष्य है।भारत में प्रति व्यक्ति तांबे की खपत 2030 तक दोगुनी होने की उम्मीद है, स्वच्छ ऊर्जा की ओर बदलाव और इलेक्ट्रिक वाहनों के बढ़ने से तांबे की मांग में उल्लेखनीय वृद्धि होगी.

Related Articles

Back to top button
Live TV