विधानसभा चुनाव जीतकर आए सभी सांसदों ने दिया इस्तीफा, PM मोदी से मुलाकात के बाद लिया ये बड़ा फैसला

दिल्ली. मध्यप्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़ और तेलंगाना में हुए विधानसभा चुनाव में भाजपा की बड़ी जीत हुई है। वहीं विधानसभा चुनाव जीतकर आए BJP के सभी सांसदों ने इस्तीफा दे दिया है। सांसदों के चुनाव जीतने के बाद ही लोगों के मन में कई तरह के सवाल उठ रहे थे। जिसको लेकर अब संशय दूर हो गया है।

दिल्ली. मध्यप्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़ और तेलंगाना में हुए विधानसभा चुनाव में भाजपा की बड़ी जीत हुई है। वहीं विधानसभा चुनाव जीतकर आए BJP के सभी सांसदों ने इस्तीफा दे दिया है। सांसदों के चुनाव जीतने के बाद ही लोगों के मन में कई तरह के सवाल उठ रहे थे। जिसको लेकर अब संशय दूर हो गया है। विधानसभा चुनाव जीतने वालों सांसदों ने आज बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात करने के बाद अपना-अपना इस्तीफा दे दिया है।

5 राज्यों के विधानसभा चुनाव में भाजपा की बड़ी जीत हुई है। भाजपा ने विधानसभा चुनावों में सांसदों और मंत्रियों को उतारते हुए एक नया प्रयोग किया था। बीजेपी ने राजस्थान और मध्य प्रदेश में 7-7, छत्तीसगढ़ में 4 और तेलंगाना में 3 सांसदों को विधानसभा का चुनाव लड़ाया था। मध्य प्रदेश में केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, केंद्रीय मंत्री प्रह्लाद पटेल और फग्गन सिंह कुलस्ते, सांसद राकेश सिंह, गणेश सिंह, रीति पाठक और राव उदय प्रताप सिंह को चुनावी मैदान में उतारा गया था। जिसमें से कई सांसदों और मंत्रियों ने जीत हासिल कर अपने- अपने राज्यों की विधानसभा का सफर तय किया।

जीतने वालों में नरेंद्र सिंह तोमर, बाबा बालकनाथ, दीया कुमारी, प्रह्लाद सिंह पटेल और राज्यवर्धन सिंह राठौड़ जैसे कई नाम हैं जिन्होंने मध्य प्रदेश और राजस्थान समेत 5 राज्यों के विधानसभा चुनाव ने जीत हासिल की है. अब ये सांसद से विधायक बनने के लिए तैयार हैं. इनकी जीत के बाद लोगों के मन में कई तरह के सवाल उठ रहे थे, जिसको लेकर अब संशय दूर हो गया है. विधानसभा चुनाव जीतने वालों सांसदों ने आज बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात करने के बाद अपना-अपना इस्तीफा दे दिया है.

अब ये सांसद विधायक बनेंगे, जबकि 2 अन्य सांसद बालकनाथ और रेणुका सिंह आज नहीं आये, इसलिए उनका इस्तीफा भी आज नहीं आया. गौर करने वाली बात ये है कि इस्तीफा देने वाले सांसदों में राजस्थान के मुख्यमंत्री की रेस में चल रहे बालकनाथ का नाम नहीं है. ऐसे में कयास ये लगाया जा रहा है कि केंद्रीय नेतृत्व उन्हें तिजारा सीट से विधानसभा न भेजकर लोकसभा में ही रखना चाहता है.

Related Articles

Back to top button
Live TV