अमेठी : स्मृति ईरानी ने साधा राहुल गांधी पर निशाना, बोलीं – मेरी बनवाई सड़क पर चलते हैं, नहीं गिना सकते 10 गांव के नाम

उन्होंने कहा कि राहुल गांधी अमेठी से कई वर्षों से सांसद रहे लेकिन वो अमेठी के 10 गांव के नाम भी नहीं बता पाएंगे। स्मृति ईरानी यहीं नहीं रुकीं उन्होंने राहुल गांधी को अमेठी के विकास कार्यों पर उनसे चर्चा करने की चुनौती दे डालीं।

शनिवार को केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी अमेठी में मौजूद रहीं। भारत समाचार से किये गए खास बीतचीत में राहुल गांधी के पूर्व संसदीय क्षेत्र से वर्तमान सांसद और केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने अपनी सरकार की उपलब्धियां गिनाने के साथ विपक्ष पर जमकर हल्ला बोला। राहुल गांधी और प्रियंका वाड्रा के अमेठी दौरे को लेकर पूछे गए एक सवाल के जवाब स्मृति ईरानी ने कहा कि अगर राहुल गांधी और प्रियंका को अमेठी से बहुत लगाव है तो ढाई साल से अमेठी ढाई घंटे के लिए ही क्यों याद आई?

वहीं अमेठी में हुए विकास कार्यों को गिनाते हुए स्मृति ईरानी ने कहा कि अमेठी की जिन सड़कों पर आज राहुल गांधी पद-यात्रा कर रहे हैं वो उनकी देन है। स्मृति ने अपने इस बयान से इंगित किया कि अमेठी में उनके सांसद बनने से पहले सड़क, पानी, बिजली और आवास जैसी मूलभूत सुविधाओं का अभाव था लेकिन अब अमेठी की स्थिति में बेहद सुधार हुआ है।

राहुल गांधी के हिन्दू और हिंदुत्ववादी वाले विवादास्पद बयान से सम्बंधित एक सवाल का जवाब देते हुए स्मृति ईरानी ने कहा कि कोई भी हिंदू गंगा स्नान का अपमान नहीं करता है, राहुल गांधी कोट पर जनेऊ पहनते हैं और हिन्दू-हिंदुत्व की कोई लड़ाई नहीं होती है, राहुल गांधी की ही हिन्दू और हिंदुत्व से लड़ाई हो सकती है। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी अमेठी से कई वर्षों से सांसद रहे लेकिन वो अमेठी के 10 गांव के नाम भी नहीं बता पाएंगे। स्मृति ईरानी यहीं नहीं रुकीं उन्होंने राहुल गांधी को अमेठी के विकास कार्यों पर उनसे चर्चा करने की चुनौती दे डालीं।

बता दें कि पिछले सप्ताह राहुल गांधी और प्रियंका गांधी वाड्रा ने अमेठी में संयुक्त रूप से एक जनसभा को सम्बोधित किया था। यूपी में कांग्रेस के दोनों नेताओं की इस जनसभा को निशाना बनाते हुए स्मृति ने कहा कि आगामी यूपी विधानसभा चुनावों के लिए उनकी ये पदयात्रा औचित्यहीन है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने अपनी जनसभा में भीड़ जुटाने के लिए छत्तीसगढ़, लखनऊ और सिद्धार्थनगर से लोग और समर्थक बुलाए थे। उनकी इस रैली और पदयात्रा में अमेठी की जनता शामिल नहीं हुई थी।

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने आगे अपनी नई थ्रिलर उपन्यास ‘लाल सलाम किताब के बारे में बताते हुए कहा कि उनकी किताब मुख्यतः सुरक्षाबलों के जीवन और उनके द्वारा सामना किये जाने वाली कठिन चुनौतियों पर आधारित एक उपन्यास है जिसकी सप्ताह भर के भीतर 20000 प्रतियां बिक गई हैं जो कि बतौर लेखिका उनके लिए खुशी की बात है।

SHARE

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

17 − 14 =

Back to top button
Live TV