लखीमपुर हिंसा मामले में एक और आरोपी वीरेंद्र शुक्ला का नाम आया सामने, सबूत मिटाने के लगे आरोप…

लखीमपुर तिकुनिया हिंसा मामले में जांच टीम ने कोर्ट में 5000 पन्नों की चार्जशीट दाखिल की है। इस मामले में केंद्रीय मंत्री के पुत्र आशीष मिश्रा मुख्य आरोपी हैं। मामले में अभी 13 आरोपी जेल में बन्द हैं। चार्जशीट में नया नाम वीरेंद्र शुक्ला का बढ़ाया गया। वीरेंद्र पर सबूत मिटाने की साजिश का आरोप है। वीरेंद्र शुक्ला केंद्रीय मंत्री के रिश्तेदार हैं। वीरेंद्र शुक्ला पलिया ब्लॉक प्रमुख है। 5 हजार पन्ने की चार्जशीट को बक्से में ले जाया गया। पेन ड्राइव, DVD भी साथ में दाखिल की गई।

बता दें, सोमवार को लखीमपुर खीरी हिंसा मामले के तीन महीने पूरे हो गए हैं। इस मामले में सात अक्तूबर को पहली गिरफ्तारी की गई थी कोर्ट ने हर हाल में जनवरी तक न्यायालय में चार्जशीट दाखिल करने का आदेश दिया था। आपको बता दें, लखीमपुर खीरी कस्बे में तीन अक्टूबर को हुई हिंसा में चार किसानों और एक पत्रकार सहित आठ लोगों की जान गई थी। तिकुनिया कांड में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र का बेटा आशीष मिश्र मोनू समेत 13 आरोपी जिला कारागार में बंद है। आशीष मिश्र की गिरफ्तारी भले ही 10 अक्तूबर को हुई थी, मगर उससे पहले सात अक्तूबर को आशीष मिश्र के करीबी लवकुश और आशीष पांडेय को गिरफ्तार कर लिया गया था। दोनों को आठ अक्तूबर को न्यायिक अभिरक्षा में जेल भेजा गया था।

SHARE

Related Articles

Back to top button
Live TV