कोरोना से बचने का एक और कवच, अमेरिका में बनी एनएमटी5 टीकाकरण के मुहिम में लाएगी तेजी

अमेरिका स्थित स्क्रिप्स रिसर्च इंस्टीट्यूट ने कोरोना से बचाव को लेकर नयी दवा खोज निकालने का दावा किया है। रिसर्च इंस्टीट्यूट के शोधकर्ताओं ने बताया कि एनएमटी 5 नाम की दवा कोरोना पर पूर्ण रूप से असरदार है

डेस्क: अमेरिका स्थित स्क्रिप्स रिसर्च इंस्टीट्यूट ने कोरोना से बचाव को लेकर नयी दवा खोज निकालने का दावा किया है। रिसर्च इंस्टीट्यूट के शोधकर्ताओं ने बताया कि एनएमटी 5 नाम की दवा कोरोना पर पूर्ण रूप से असरदार है। इसके अतिरिक्त यह दवा सार्स-कोव-2 (कोरोना) वायरस के अन्य उभरते स्वरूपों के खिलाफ भी असरदार साबित होगी।

इंस्टीट्यूट की तरफ से नेचर केमिकल बायोलॉजी में छपे शोधपत्र के मुताबिक इस दवा के निर्माण में उपयोग हुआ रसायन कोरोना वायरस को शरीर में एसीई2 रिसेप्टर से जोड़ने से रोकता है। ताकि आगे कोशिकाएं संक्रमित न हो पाएं और वायरस का असर भी कम होने लगे।

एनएमटी 5 नाम की इस दवा में उपस्थित रसायन कोरोना वायरस की सतह पर स्थित छिद्र को पहचान कर उससे जुड़ जाता है। जिससे शरीर में उपस्थित एसीई2 अणु रासायनिक तौर पर संशोधित हो जाता है। फिर दवा में शामिल नाइट्रोग्लिसरीन, वायरस के खिलाफ हथियार का काम करता है। इस तरह वायरस जब एसीई2 पर चिपकता है तो वह अपने आप ही नष्ट हो जाता है। शोध के बारे में वरिष्ठ लेखक स्टुअर्ट लिप्टन कहते हैं कि “एनएमटी5 की खास बात ये है कि बात इससे वायरस खुद अपने ही खिलाफ होके नष्ट हो जाता है।”

वरिष्ठ वैज्ञानिक और शोध के प्रथम लेखक चांग-की ओह लिखते हैं “कोरोना के नए उभरते स्वरूपों पर भी एनएमटी5 के असरदार रहने की उम्मीद है। इसका आक्रमण केवल उन हिस्सों पर निर्भर नहीं है, जो आमतौर पर म्यूटेट करते रहते हैं।”
एनएमटी5 का परीक्षण इंसानों के साथ जानवरों पर भी किया गया है। शोधकर्ताओं ने इसके साथ उम्मीद जताई कि यह दवा वायरस के अन्य रूपों के खिलाफ भी समान रूप से प्रभावशाली रहेगी।

Related Articles

Back to top button