BHOPAL : पीएम ने किया रानी कमलापति रेलवे स्टेशन का उद्घाटन, बोले- भारतीय रेलवे बदलते भारत का प्रतीक

पीएम मोदी ने आदिवासी आइकन और स्वतंत्रता सेनानी बिरसा मुंडा की याद में 'जनजातीय गौरव दिवस' के उपलक्ष्य में एक आदिवासी सम्मेलन के लिए भोपाल की अपनी यात्रा के दौरान नामित रेलवे स्टेशन का उद्घाटन किया।

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को मध्य प्रदेश के भोपाल शहर में भारत के ‘सबसे आधुनिक’ रेलवे स्टेशन रानी कमलपति स्टेशन का उद्घाटन किया। यह रेलवे स्टेशन पहले हबीबगंज रेलवे स्टेशन के नाम से जाना जाता था, बाद में इसका नाम बदलकर रेलवे स्टेशन का नाम बदलकर गोंडवाना की महारानी, रानी कमलापति के नाम पर रखा गया है।

इस रेलवे स्टेशन के उद्घाटन के दौरान राज्यपाल मंगूभाई पटेल, रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव और सीएम शिवराज सिंह चौहान भी मौजूद थे। इस मौके पर पीएम मोदी ने कहा कि इस स्टेशन का नाम रानी कमलापति से जोड़ने के बाद इसका महत्व और बढ़ गया है।

पीएम मोदी ने कहा, “इस ऐतिहासिक रेलवे स्टेशन का न केवल पुनर्विकास किया गया है, बल्कि गिन्नौरगढ़ की रानी कमलापति का नाम इस स्टेशन से जोड़ने से इसका महत्व भी बढ़ गया है। रेलवे का गौरव अब गोंडवाना के गौरव से जुड़ गया है।”

उन्होंने आगे कहा कि भोपाल का यह रेलवे स्टेशन इस बात का प्रतीक बन गया है कि भारतीय रेलवे का भविष्य कितना आधुनिक और उज्ज्वल है। भारतीय रेलवे अब बदलते भारत का प्रतीक बन रहा है।

स्टेशन पर दिए गए सुविधाओं के लिहाजा केंद्रीय रेलवे मंत्रालय ने अपने आधिकारिक कू हैंडल पर रेलवे स्टेशन के उदघाटन के अवसर पर लिखा है कि, ‘पुनर्विकसित रानी कमलापति स्टेशन पर टैक्सी और बस के लिए स्वतंत्र पार्किंग, सर्कुलेशन और पार्किंग (50,806 वर्गमीटर), टैक्सियों और बसों के लिए बनायी गयी लेन अब लोगों को समर्पित’

पुनर्विकसित हबीबगंज रेलवे स्टेशन का नाम बदलने के बाद अब रानी कमलापति रेलवे स्टेशन का उद्घाटन किया गया है। मध्य प्रदेश सरकार द्वारा इस बात की जानकारी पहले ही केंद्रीय गृह मंत्रालय को दे दी गयी थी। इसमें कहा गया था कि यह गोंड शासक निजाम शाह की पत्नी रानी कमलापति की भव्य विरासत और बहादुरी को उचित सम्मान देने के लिए यह निर्णय लिया गया।

पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप (PPP) मॉडल के तहत लगभग 450 करोड़ रुपये की लागत से इस रेलवे स्टेशन का जीर्णोद्धार किया गया है। विश्व स्तरीय सुविधाओं से लैस इस आधुनिक रेलवे स्टेशन में शारीरिक रूप से विकलांग लोगों, बुजुर्गों और महिलाओं के लिए विशेष सुविधाएं दी गयी हैं। सबसे अच्छी बात ये है कि इस रेलवे स्टेशन के निर्माण में पर्यावरण का विशेष ध्यान रखा गया है। रेलवे स्टेशन में दी गयी सभी सुविधाएं पर्यावरण के अनुकूल बनाई गयी हैं। अधिकारियों के अनुसार, स्टेशन को एकीकृत मल्टी-मोडल परिवहन के केंद्र के रूप में भी नया रूप दिया गया है।

Related Articles

Back to top button
Live TV