दोपहर ढाई बजे आज ट्विन टावर में होगा टेस्ट ब्लास्ट, जानें आखिर टेस्ट ब्लास्ट के लिए क्यों चुना गया 14 वां फ्लोर?

सुप्रीम कोर्ट ने सुपरटेक के एमरॉल्ड ट्विन टावर को ध्वस्त करने का आदेश दिया था। इस आदेश का अनुपालन कराने के लिए नोएडा प्राधिकरण ने अफ्रीका की कम्पनी एडविज को इस काम के लिए चुना था।

रविवार को नोएडा स्थित सुपरटेक ट्विन टावर में ट्रायल ब्लास्ट किया जाना है। इस ब्लास्ट का मकसद टावर की क्षमता का आंकलन करना है कि आखिर इतनी बड़ी बिल्डिंग को धवस्त करने के लिए कौन से मानक अपनाए जाएंगे। वहीं ट्रायल ब्लास्ट को लेकर सभी तैयारियां पूरी कर ली गई है। प्रशासन को मौके पर उपस्थित रहने के आदेश है।

जानकारी के मुताबिक, सुपरटेक ट्विन टावर में विस्फोट को अंजाम देने के लिए ट्रायल ब्लास्ट में 10 किलोग्राम विस्फोटक का इस्तेमाल किया जाना है। सबसे पहले विस्फोटक को टावर के कई अलग-अलग हिस्सों में लगाया जाएगा। चूकि यह एक टेस्ट ब्लास्ट होगा और इससे टावर को ध्वस्त करने में जरुरी वैज्ञानिक मानकों का ध्यान रखना है लिहाजा वो पॉइंट्स पहले से निर्धारित किये जा चुके हैं जहां विस्फोटक लगाया जाएगा।

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने सुपरटेक के एमरॉल्ड ट्विन टावर को ध्वस्त करने का आदेश दिया था। इस आदेश का अनुपालन कराने के लिए नोएडा प्राधिकरण ने अफ्रीका की कम्पनी एडविज को इस काम के लिए चुना था। बहरहाल, आज दोपहर ढाई बजे कम्पनी ट्रायल ब्लास्ट करेगी।

यह ब्लास्ट सुपरटेक ट्विन टावर के 14 वें फ्लोर पर होना हैं क्योंकि इस टेस्ट ब्लास्ट से संबंधित जरुरी गणनाओं को संलग्न कर एक रिपोर्ट बनेगी जिसके आंकलन का उपयोग 22 मई को टावर को पूरी तरह से जमींदोज करने में किया जाएगा।

Related Articles

Back to top button
Live TV