कन्नौज में बाढ़ ने मचाई तबाही, किसानों की हजारों बीघे फसल बर्बाद, पलायन को हुए मजबूर

कन्नौज. कन्नौज के हाई फ्लड गांवो ने 11 साल बाद बाढ़ की मुसीबतें एक बार फिर झेली हैं। इस बार यह मुसीबत बरसात में नही बल्कि खुशनुमा कहे जाने वाले अश्विन यानी फुहार के मौसम में आयी है। ग्रामीणों को बर्बादी पर लाने वाले इस मौसम का कोई अंदाजा भी नही था। यही कारण है कि कन्नौज में गंगा किनारे बसे गांवो में बाढ़ ने इस बार कुछ ज्यादा ही तबाही मचायी है।

कन्नौज में काली व गंगा नदी किनारे बसे 18 गांवो को हाईफ्लड की श्रेणी में रखा गया है। यह सभी गांव सदर तहसील में स्थित हैं। इनमें कन्नौज कछोहा, मेहंदीपुर व कासिमपुर अतिवृष्टि के बाद आयी बाढ़ से बुरी तरह प्रभावित हैं। यहां के जुकइया, सलेमपुर ताराबांगर, चौराचांदपुर, कटरी दुर्जनापुर और कटरी गंगपुर गांव की आबादी में भले ही पानी न घुसा हो, लेकिन इन गांवो के किसानों की हजारों बीघा धान, आलू व सरसों फसल बाढ़ की भेंट चढ़ गयी है। कासिमपुर गांव में ग्रामीणों को बाहर निकालने के लिये प्रशासनिक मशीनरी जुटी हुई है। यहां एसडीएम सदर की अगुवाई में ग्रामीणों को बाहर निकालकर नाव से सुरक्षित जगहों पर ले जाया जा रहा है। टापू बने गांवो में अभी भी ग्रामीणों को मदद का इंतजार है।

बाढ़ से हुये नुकसान के आंकलन में जुटे एसडीएम सदर उमाकांत तिवारी का कहना है कि राजस्व टीमें बाढ़ प्रभावित गांवों का सर्वे कर रही हैं। नुकसान का आंकलन कर शासन को रिपोर्ट भेजी जाएगी और बर्बाद किसानों व ग्रामीणों को उचित मुआवजा दिया जाएगा। बाढ़ झेल रहे ग्रामीणों के लिये राहत की बात यह है की अब गंगा का जलस्तर और नही बढ़ेगा। नरौरा बांध से पानी छोड़ा जाना बंद हो गया है। माना जा रहा है की देर रात से गंगा का जलस्तर घटना शुरू हो जाएगा।

SHARE

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

twelve + 1 =

Back to top button
Live TV