कानपुर देहात : बच्चे को गोद में लिए व्यक्ति पर लाठीचार्ज मामले में कार्रवाई, कोतवाली प्रभारी विनोद मिश्रा निलंबित

कानपुर देहात की कोतवाली अकबरपुर क्षेत्र के जिला अस्पताल अकबरपुर में हुये बबाल और मारपीट के मामले की कानपुर रेंज के आई जी प्रशान्त कुमार ने जांच पड़ताल की और जिला अस्पताल के कर्मचारियों से गहनता से पूछताछ की । वही ओपीडी में आये ग्रामीण क्षेत्र के मरीजो और उनके परिजनों से भी हालचाल पूछे साथ ही आईजी ने पुलिस लाइन के सभागार में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बताया कि मासूम बच्ची के साथ युवक की अकबरपुर कोतवाल विनोद कुमार मिश्रा ने जमकर पीटा जो गलत और गैर कानूनी हैं । वीडियो वायरल होने के बाद मामला संज्ञान आया है जिसमे कोतवाल को निलंबित कर दिया गया है । और कोतवाल के द्वारा पिटाई किये जाने एवं ओपीडी बन्द किया जाना साथ ही पुलिस पर हमला करने के पूरे प्रकरण की गहनता से जांच की जा रही हैं । जो भी घटना दोषी पाया जाएगा कार्यवाही की जाएगी ।

पुलिस लाइन के सभागार में मौजूद आईजी प्रशांत कुमार में मीडिया को बताया कि जिला अस्पताल के पास मेडिकल कालेज बन रहा है। कार्य के दौरान धूल मिट्टी को लेकर आरोपी रजनीश कुमार ने अपने साथियो के साथ ओपीडी का गेट बंद करवा दिया जिससे ओपीडी प्रभावित हो गई । जिसमें पुलिस को बुलाया गया और पुलिस ने ओपीडी खुलवाने के लिए पुलिस और उपद्रवियों के बीच ववाल हो गया । जिसमें कोतवाल ने मारपीट शुरू कर दी जो गलत हैं । समझा बुझा कर हटाना था और बच्ची के साथ युवक को पीटा था जो संवेदन हीनता को दर्शाता है , जिस पर कोतवाल के खिलाफ कार्यवाही की जा रही हैं । कोतवाल को निलम्बित किया गया है । और कोतवाल के खिलाफ विभागीय जांच की जा रही , इस ववाल मे तीन मुकदमा दर्ज किए गए है , पुलिस पर मारपीट व कोतवाल का अंगूठा चबाने के मामले में पुलिस के द्वारा मुकदमा दर्ज किया गया है | वही पूरे प्रकरण में कानपुर देहात के अपर पुलिस अधीक्षक को जांच सौंपी गई हैं । जांच में जो दोषी होंगे कार्यवाही की जाएगी ।

ओपीडी के मामले में आई जी ने बताया कि रजनीश कुमार शुक्ला सरकारी कर्मचारी हैं उन्होंने अपने साथियों के साथ ओपीडी बन्द की गेट बंद किया जो गलत है । जिसके कारण मरीजो को उपचार दवा नही मिल पा रही थीं । जिसको संचालित करवाने के लिए पुलिस को बुलाया गया था । ओपीडी संचालित करवाने के कारण ही बबाल हुआ था । आज मेरे द्वारा पूछताछ जांच पड़ताल की गई तो मरीजो ने कल के प्रकरण में बताया कि बहुत ही परेशान रहे और ओपीडी बन्द की गई थी । जो गलत हैं । बरहाल मामले की जांच की जा रही हैं । आज ओपीडी सही तरीके से संचालित है । करीब 400 लोग उपचार और दवा के लिए पहुच चुके थे ।

SHARE

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

20 − 10 =

Back to top button
Live TV