कानपुर : संजीत यादव हत्याकांड मामले में IPS अपर्णा गुप्ता दोषी साबित, जल्द ही शासन स्तर से होगी कार्रवाई!

केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) ने साल 2020 में कानपुर में एक लैब टेक्नीशियन के अपहरण और संदिग्ध हत्या मामले में प्राथमिकी दर्ज की थी। CBI द्वारा दर्ज की गई प्राथमिकी के अनुसार, संजीत यादव 22 जून, 2020 को सुबह करीब 8 बजे अपने कानपुर स्थित आवास से धनवंतरी अस्पताल में काम करने के लिए निकले थे, लेकिन कभी घर नहीं लौटे।

परिवार ने तब मामले की CBI जांच की मांग की थी जिसके बाद उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा इसकी सिफारिश के परिणामस्वरूप मामले की जांच CBI कर रही थी। जांच के फलस्वरूप अब यह खबर आ रही है कि SP रेल, मुरादाबाद अपर्णा गुप्ता संजीत अपहरण में लापरवाही बरतने के मामले में दोषी साबित हुई हैं। मामले की जांच एक वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी कर रहे थे जिनकी जांच रिपोट में अपर्णा गुप्ता दोषी साबित हुई हैं।

SP साउथ अपर्णा गुप्ता पर आरोप था कि उन्होंने अपहरणकर्ताओं को पकड़ने के लिये जाल बिछाया था, लेकिन अपहरणकर्ताओं ने चालाकी दिखाई और 30 लाख की फिरौती लेकर फरार हो गए थे। मृतक के परिजनों ने भी SP साउथ अपर्णा गुप्ता पर लापरवाही का आरोप लगाया था और इन सबके के पीछे की वजह भी अपर्णा गुप्ता को बताते हुए CBI जांच की मांग की थी क्योंकि उन्होंने फिरौती की रकम पुलिस को दिया था।

उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा अगस्त, 2020 में कानपुर में 27 वर्षीय लैब टेक्नीशियन संजीत यादव के अपहरण और हत्या की CBI जांच की सिफारिश करने के एक साल बाद केंद्रीय जांच एजेंसी ने मामले में प्राथमिकी दर्ज की और जांच शुरू कर दी। इस पूरे मामले में मृतक के परिजनों ने तत्कालीन IPS अधिकारी अपर्णा गुप्ता पर लापरवाही जांच में लापरवाही करने के आरोप लगाए थे जिसके बाद IPS अधिकारी समेत चार अन्य पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया गया था। अब बताया जा रहा है कि आरोप सिद्ध होने के बाद जल्द ही शासन स्तर से आईपीएस अपर्णा गुप्ता पर कार्यवाही हो सकती है।

SHARE

Related Articles

Back to top button
Live TV