विद्या भारती से जुड़ा पदाधिकारी धोखाधड़ी के आरोपों में गिरफ्तार, कंस्ट्रक्शन के नाम पर बड़ी कंपनियों को लगाया चूना…

बिल्डर सौरभ मिश्रा पर आरोप है कि कंस्ट्रक्शन कराने के नाम पर उन्होंने सरकारी धन की धड़ल्ले से लूट की है. मामले में मुंबई के रहने वाले पीड़ित ने ठाणे पुलिस स्टेशन में इस संबंध में अपनी एफआईआर दर्ज कराई है.

राजधान लखनऊ के जानकीपुरम निवासी बिल्डर सौरभ मिश्रा को मुंबई पुलिस ने शुक्रवार को गिरफ्तार कर लिया. बिल्डर मिश्रा पर लाखों रुपयों के हेरा-फेरी के आरोप लगे हैं. लखनऊ की गुडम्बा पुलिस के सहयोग से मुंबई की थाने पुलिस ने यह गिरफ्तारी की. पुलिस ने बिल्डर सौरभ मिश्रा को उनके आवास से गिरफ्तार किया और ट्रांजिट रिमांड पर लेकर उन्हें मुंबई के लिए रवाना हो गई.

गिरफ्तारी की सूचना गुडम्बा थाना पुलिस ने दी है साथ ही बिल्डर के ट्रांजिट रिमांड की भी पुष्टि की है. बिल्डर सौरभ मिश्रा पर आरोप है कि कंस्ट्रक्शन कराने के नाम पर उन्होंने सरकारी धन की धड़ल्ले से लूट की है. मामले में मुंबई के रहने वाले पीड़ित ने ठाणे पुलिस स्टेशन में इस संबंध में अपनी एफआईआर दर्ज कराई है. जिस आधार पर मुंबई पुलिस ने लखनऊ से बिल्डर को गिरफ्तार किया है. लाखों की धोखाधड़ी मामले में मुंबई पुलिस ने बिल्डर सौरभ मिश्रा के खिलाफ अंतर्गत धारा 409, 419, 420 में उनके खिलाफ मुकदमा पंजीकृत किया है.

कौन है सौरभ मिश्रा

सौरभ कुमार मिश्र राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की शैक्षणिक संस्था विद्या भारती के पूर्वांचल प्रचार प्रमुख हैं. वह राजधानी लखनऊ के निरालानगर स्थित सरस्वती कुंज परिसर में ही प्रो. राजेन्द्र सिंह रज्जू भैया उच्च तकनीकी सूचना संवाद केन्द्र के संचालक भी हैं. इसी परिसर में सौरभ मिश्रा ने अपना कार्यालय भी बना रखा है. इससे पहले सौरभ ‘राष्ट्रधर्म’ पत्रिका के प्रकाशन का काम संभालते थे. लेकिन वहां पर भी एक गड़बड़ी के मामले में उनका नाम सामने आने के बाद उन्हें हटा दिया गया. हालांकि बाद में उन्होंने अपने रसूख का इस्तेमाल किया और कुछ अधिकारियों के माध्यम से दोबारा एक बार फिर विद्या भारती पर काबिज हो गए.

Related Articles

Back to top button
Live TV