जासूसी कर रही स्पाई सॉफ्टवेयर कंपनियों के चलते मेटा ने फेसबुक और इंस्टाग्राम से हटाए 100 से भी अधिक अकाउंट

इजराइल के NSO समूह पेगासस जासूसी मामले में विश्व स्तर पर चर्चा में रहा। भारत में भी पेगासस को लेकर सरकार पर विपक्ष द्वारा गंभीर आरोप लगाए गए थे। देश में अब भी कई ऐसी अन्य कंपनियां हैं जो पेगासस के जैसे “निगरानी सेवाएं” प्रदान कर रहीं हैं। ये कंपनियां ना केवल भारत में वरन दुनिया भर में हैक-फॉर-हायर सेवाओं के रूप में लोकप्रिय हैं जिनके बारे में बहुत कम लोग जानते हैं।

अब, फेसबुक के अपग्रेडेड वर्जन मेटा ने सार्वजनिक रूप से घोषणा की है कि उसने फेसबुक पर निगरानी गतिविधियों में शामिल होने के लिए सात “संस्थाओं” को हटा दिया है। इन संस्थाओं में से एक नई दिल्ली स्थित बेलट्रॉक्स इन्फोटेक सर्विसेज भी शामिल है। मेटा द्वारा जारी किये गए एक आधिकारिक रिपोर्ट में कहा गया है कि करीब 50,000 फेसबुक यूजर्स इस कंपनी के जरिये जासूसी के निशाने पर थे।

इन कंपनियों को “साइबर भाड़े के लोग” कहते हुए, मेटा ने कहा कि उनका दावा है कि उनकी सेवाएं केवल अपराधियों और आतंकवादियों को लक्षित करती हैं। हालांकि, इसके शिकार होने वाले लक्ष्य पत्रकार, नेता, सत्तावादी शासन के आलोचक, विपक्षी सदस्यों के परिवार और मानवाधिकार कार्यकर्ता हैं। मेटा द्वारा जारी बयान में बताया गया था कि इन कंपनियों ने 100 से अधिक देशों में लोगों को लक्षित किया था।

इन हैक फॉर हायर कंपनियों में से अधिक संख्या में चीन की कंपनियां शामिल हैं। इसमें भारत की भी एक सॉफ्टवेयर कंपनी का नाम आया है जिसे मेटा की सख्त कार्रवाई का सामना करना पड़ा। मेटा ने एंड्रॉइड, आईओएस, विंडोज और लिनक्स, मैक ओएस एक्स और सोलारिस ऑपरेटिंग सिस्टम के लिए सर्विलांसवेयर विकसित करने के लिए जिम्मेदार चीन में एक अज्ञात इकाई से जुड़े लगभग 100 फेसबुक और इंस्टाग्राम अकाउंट को हटा दिया। यह अपने लक्ष्यों तक दुर्भावनापूर्ण पेलोड पहुंचाने से पहले टोही और सामाजिक इंजीनियरिंग गतिविधियों में भी लगा हुआ था।

Related Articles

Back to top button
Live TV