संविधान दिवस के अवसर पर प्रधानमंत्री ने विपक्ष को लेकर कही यह बड़ी बात, पढ़ें पूरी खबर…

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संसद के सेंट्रल हाल में ‘संविधान दिवस’ कार्यक्रम को संबोधित किया। संविधान दिवस के अवसर पर प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, “हमारा संविधान केवल कई लेखों का संग्रह नहीं है, यह सहस्राब्दियों की महान परंपरा है। हमारा संविधान हमारे विविध देश को एक-सूत्रता के बंधन में बांधता है। कई बाधाओं के बाद इसका मसौदा तैयार किया गया था और देश में रियासतों को एकजुट किया गया था।”

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को अपने सम्बोधन में कहा कि संविधान दिवस संसद को प्रणाम करने का दिन है, जहां देश के कई नेताओं ने भारत को संविधान देने के लिए मंथन किया। उन्होंने कहा आज का दिन अंबेडकर,राजेंद्र प्रसाद और पूज्य बापू को नमन करने का दिन है, आजादी के योद्धाओं को भी नमन करने का दिन है। प्रधानमंत्री ने मुंबई में 26/11 के आतंकी हमलों में अपनी जान गंवाने वालों को भी श्रद्धांजलि दी। पीएम ने कहा, “आज मुंबई में 26/11 के आतंकवादी हमलों की बरसी पर, मैं देश के उन सभी बहादुर सैनिकों को श्रद्धांजलि देता हूं जिन्होंने आतंकवादियों से लड़ते हुए अपने प्राणों की आहुति दी।”

संविधान की प्रासंगिकता और उसकी महत्ता पर प्रकाश डालते हुए पीएम ने अपने सम्बोधन के दौरान कहा कि संविधान दिवस हमें जरुर मनाना चाहिए। हर साल संविधान दिवस पर मूल्यांकन भी करने की जरुरत है क्योंकि हमारा संविधान अखंड धारा की अभिव्यक्ति है। प्रधानमंत्री ने अपने सम्बोधन के अगले हिस्से में कहा कि अगर ‘आज संविधान बनाना होता तो बहुत मुश्किल था’ क्योंकि कई दल अपना लोकतांत्रिक चरित्र खो चुके हैं।

Koo App

संविधान दिवस के अवसर पर पीएम ने विपक्ष पर भी निशाना साधते हुए कहा, स्वतंत्रता सेनानियों के लिए देश सर्वोपरि था। आज कुछ राजनैतिक दल सिर्फ परिवार के बारे में सोचते है और जिस तरह से ‘विपक्ष ने संविधान दिवस मनाने का विरोध किया यह देश के लिए चिंता का विषय है।

Related Articles

Back to top button
Live TV