एयरपोर्ट पर यात्रियों का चेहरा ही करेगा बोर्डिंग पास का काम

भारत में एयरपोर्ट पर फेशियल रिकग्निशन टेक्नोलॉजी को लेकर नागरिक उड्डयन मंत्रालय में राज्य मंत्री जनरल वीके सिंह (सेवानिवृत्त) ने लोकसभा में बताया कि देश में किसी भी हवाई अड्डे पर चेहरे की पहचान तकनीक (एफआरटी) को अभी तक पेश नहीं किया गया है।

भारत में एयरपोर्ट पर फेशियल रिकग्निशन टेक्नोलॉजी को लेकर नागरिक उड्डयन मंत्रालय में राज्य मंत्री जनरल वीके सिंह (सेवानिवृत्त) ने लोकसभा में बताया कि देश में किसी भी हवाई अड्डे पर चेहरे की पहचान तकनीक (एफआरटी) को अभी तक पेश नहीं किया गया है।

लोकसभा में सांसद वरुण गांधी और राम शंकर कठेरिया यह सवाल पूछा था जिसके जबाव में जनरल वीके सिंह ने बताया कि, एयरपोर्ट अथारिटी आफ इंडिया (एएआई) देश के चार हवाई अड्डों पुणे, कोलकाता विजयवाड़ और वाराणसी, में एफआरटी-आधारित बायोमेट्रिक बोर्डिंग सिस्टम की एक परियोजना पर काम कर रहा है।

बाद में इसे देश के अलग-अलग हवाई अड्डों पर चरणबद्ध तरीके से शुरू किया जाएगा। लेकिन यह यात्रियों की इच्छा पर निर्भर करता है कि वो फेशियल रिकग्निशन टेक्नोलॉजी का विकल्प को अपनाना चाहते है कि नहीं। अगर यात्री ये विकल्प नही चुनते है तो उन्हें मैनुअल प्रोसेस का इस्तेमाल करने की छूट होगी।

Related Articles

Back to top button
Live TV