लड़कियों की शादी की उम्र 21 साल करने पर भड़के ओवैसी, मोदी सरकार पर ऐसे बोला हमला

ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने शुक्रवार को केंद्र सरकार पर तंज कसते हुए कहा कि अगर कोई लड़की 18 साल की उम्र में प्रधानमंत्री चुन सकती है तो साथी क्यों नहीं। ट्विटर पर उन्होंने लिखा, पुरुषों और महिलाओं दोनों को कानूनी रूप से 18 साल की उम्र में शादी करने की अनुमति दी जानी चाहिए।

ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने शुक्रवार को केंद्र सरकार पर तंज कसते हुए कहा कि अगर कोई लड़की 18 साल की उम्र में प्रधानमंत्री चुन सकती है तो साथी क्यों नहीं। ट्विटर पर उन्होंने लिखा, पुरुषों और महिलाओं दोनों को कानूनी रूप से 18 साल की उम्र में शादी करने की अनुमति दी जानी चाहिए।

ओवैसी ने कहा, “यह प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार का महिलाओं के लिए शादी की उम्र को बढ़ाकर 21 करना पितृत्ववाद का एक बहुत अच्छा उदाहरण है। 18 साल की उम्र में, एक भारतीय नागरिक अनुबंध पर हस्ताक्षर कर सकता है, व्यवसाय शुरू कर सकता है, प्रधान मंत्री चुन सकता है और सांसदों और विधायकों का चुनाव कर सकता है। लेकिन शादी नहीं कर सकता ।

AIMIM प्रमुख ने आगे कहा कि इस सरकार ने महिलाओं के उत्थान के लिए कुछ नहीं किया है। भारत इकलौता ऐसा देश है जहां कार्यबल में महिलाओं की हिस्‍सेदारी में गिरावट आ रही है कार्यबल में महिलाओं की भागीदारी 2005 में 26 प्रतिशत थी जो 2020 में घटकर 16 प्रतिशत रह गई है।”

Related Articles

Back to top button
Live TV