केंद्र सरकार के खिलाफ इस मामले को लेकर कोर्ट पहुंचे सुब्रमण्यम स्वामी, CBI जांच के लिए भी मांग की

8 अक्टूबर 2021 को हुई नीलामी की प्रक्रिया में टाटा संस ने एयर इंडिया को 18000 करोड़ रुपए में खरीद लिया। इस नीलामी प्रक्रिया में कई प्राइवेट एविएशन कंपनियों ने हिस्सा लिया था लेकिन टाटा संस ने सबसे ज्यादा बोली लगाकर एयर इंडिया को खरीद लिया। अब एयर इंडिया का मालिकाना हक टाटा संस के पास है।

भाजपा के राज्यसभा सांसद और वरिष्ठ नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने दिल्ली हाई कोर्ट में याचिका दायर की है। यह याचिका एयर इंडिया की विनिवेश प्रक्रिया को रद्द करने को लेकर दायर की गई है। इस मामले की सुनवाई मंगलवार को होनी है। दिल्ली हाई कोर्ट के जस्टिस डीएन पटेल और जस्टिस ज्योति सिंह की बेंच इस मामले की सुनवाई करेगी। सुब्रमण्यम स्वामी ने अपने वकील सत्य सब्रवाल के जरिए कोर्ट में याचिका दायर कर पूरे विनिवेश प्रक्रिया के सीबीआई जांच की मांग की है।

दरअसल, हाल ही में उड्डयन मंत्रालय के सचिव राजीव बंसल ने एयर इंडिया क के विनिवेश प्रक्रिया के बारे में जानकारी देते हुए कहा था कि दिसंबर महीने के अंत तक एयर इंडिया के ऑपरेशन को टाटा संस को सौंप दिया जाएगा। सरकार के इस फैसले से बौखलाए सुब्रह्मण्यम स्वामी ने दिल्ली हाईकोर्ट में याचिका दायर की। सुब्रमण्यम स्वामी के इस बगावती तेवर के पीछे राजनैतिक कारण होने के संदेह को भी नहीं नकारा जा सकता। स्वामी का मानना है कि विनिवेश प्रक्रिया में बड़े पैमाने में घोटाला हो सकता है और इसे उजागर करने के उद्देश्य से उन्होंने मामले की सीबीआई जांच कराने की मांग की है।

बता दें कि 8 अक्टूबर 2021 को हुई नीलामी की प्रक्रिया में टाटा संस ने एयर इंडिया को 18000 करोड़ रुपए में खरीद लिया। इस नीलामी प्रक्रिया में कई प्राइवेट एविएशन कंपनियों ने हिस्सा लिया था लेकिन टाटा संस ने सबसे ज्यादा बोली लगाकर एयर इंडिया को खरीद लिया। अब एयर इंडिया का मालिकाना हक टाटा संस के पास है। गौरतलब हो कि कर्ज के बोझ में दबी एयर इंडिया को केंद्र सरकर ने प्राइवेट हाथों में सौंपने की कई कवायदें की लेकिन कई अवरोध सामने थे। अब देखने वाली बात यह है कि अपने ही राज्य सभा सांसद को भाजपा कैसे समझा पाती है।

SHARE

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

12 − nine =

Back to top button
Live TV