यूक्रेन सेना ने रूसी कब्जे से वापस चीन छीने तीन शहर, हार के डर से रूस ने तेज किये हमले।

युक्रेन के राष्ट्रपति जेलेंसकी ने रूस के कब्जे से तीन शहरों को वापस लेने का दावा किया। रूसी राष्ट्रपति ने अभी हाल में ही इन तीन शहरों के साथ चार यूक्रेनी क्षेत्रों को यूरोप के सबसे बड़े विलय के रूप में शामिल किया था...

युक्रेन के राष्ट्रपति जेलेंसकी ने रूस के कब्जे से तीन शहरों को वापस लेने का दावा किया। रूसी राष्ट्रपति ने अभी हाल में ही इन तीन शहरों के साथ चार यूक्रेनी क्षेत्रों को यूरोप के सबसे बड़े विलय के रूप में शामिल किया था। खेरसान के उत्त-पूर्व में स्थित नोवोवोस्क्रेसेन्सके, नोवग्रेगोरिव्का और पेत्रोपेवलिवका को रूस के कब्जे से वापस लेने के बाद यूक्रेन के हौसले बढ़े हुये है। इसे युद्ध में अपनी वापसी की तरह देख रही यूक्रेनी सेना ने अपनी सैन्य कार्यवाही तेज़ कर दी है।

रूसी राष्ट्रपति द्वारा अंतर्राष्ट्रीय कानून को तोड़कर चार प्रांतों के विलय पर दस्तखत कर अंतिम रूप देने के ठीक बाद यूक्रेन ने यह कार्यवाही की। यूक्रेन ने 24 घंटे के अन्दर के तीनों इलाकों को रूसी कब्जे से वापस मुक्त कराने का दावा किया है। युक्रेन के राष्ट्रपति जेलेंसकी ने कहा कि “हमारे योद्धा रुक नहीं रहे हैं और ये बस समय की ही बात है जब हम कब्जा करने वालों को अपनी जमीन से खदेड़ देंगे।”

यूक्रेन दिनिप्रो नदी के पश्चिम में अपनी मौजूदगी मजबूत कर रहा है और युद्ध के मैदान से आ रही रिपोर्टों के मुताबिक उत्तर-पश्चिम में भी यूक्रेन की स्थिति मजबूत हो रही है। यूक्रेन ने आगे यह भी कहा है कि उसने रूसी नियंत्रण वाले लुहांस्क क्षेत्र में भी बढ़त बना ली है। वहीं रूस ने भी युद्ध में वापसी के लिये हमले और तेज़ कर दिये हैं।

रूसी सेना ने अपनी हार को देखते हुये हमले और तेज़ कर दिये हैं। रूसी सेना ने ईरानी-आपूर्ति वाले ड्रोन से कीव के दक्षिण में करीब 50 मील दूर बिलात्सेरकवा में धमाके किए। अब वह यूक्रेन के सैन्य कार्यों में बाधा डालने के लिये बिजली स्टेशनों को निशाना बना रहा है।

Related Articles

Back to top button