क्या है यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन (UTI), इन आसान टिप्स को अपनाकर करें बचाव

सर्दियों के मौसम के कई फायदे होते हैं, इसका अपना ही आकर्षण होता है। यह वह समय है जब गठिया, हृदय की समस्याओं, सांस की समस्याओं के साथ-साथ त्वचा से जुडी बीमारियां बढ़ जाती हैं। सर्दियों में यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन (यूटीआई) भी आम है. यह समस्या अधिकतर महिलाओं में ही देखी जाती है यह बहुत गंभीर समस्या नहीं होती है।

जब महिलाओं का यूरिनरी सिस्टम यानी मूत्र प्रणाली संक्रमित हो जाती है तो अधिकतर यह इंफेक्शन देखने को मिलता है। इस इंफेक्शन का असर हमारी बॉडी के दूसरे अंगों जैसे कि ब्लैडर, किडनी पर भी पड़ता है। अगर यूटीआई पर ध्यान ना दिया जाए तो इसका इंफेक्शन किडनी में फैल सकता है और स्थिति गंभीर हो सकती है। लेकिन कुछ टिप्स अपनाकर इससे बच सकते है।

प्यास न लगने पर भी अपने आप को अच्छी तरह से हाइड्रेट करके यूटीआई को रोका जा सकता है। पेशाब करने की इच्छा से भी बचना चाहिए क्योंकि इससे मूत्राशय के संक्रमण का खतरा भी बढ़ सकता है। अच्छी पर्सनल हाइजीन और विटामिन सी से भरपूर भोजन करने से आप इस बीमारी को दूर रख सकते है।

हर दिन लगभग 10 गिलास पानी पिएं :

क्या आप सर्दियों में पानी पीने से बचते हैं क्योंकि यह बहुत ठंडा होता है? आप गलती कर रहे होते है क्योंकि इससे आपको यूटीआई होने का खतरा बढ़ सकता है। हाइड्रेटेड रहने से आपके मूत्र तंत्र को जहरीले कचरे को प्रभावी ढंग से बाहर निकालने में मदद मिलती है, और मूत्र पथ के संक्रमण को दूर रखा जा सकता है । जितना हो सके उतना पानी पीने की कोशिश करें।

पेशाब को ज्यादा देर तक रोक कर रखने से बचें :

जैसे ही आपको वॉशरूम जाने की इच्छा हो, ब्लैडर इंफेक्शन के खतरे को कम करने के लिए पेशाब करें।

अच्छी पर्सनल हाइजीन अपनाए :

आपके लिए अच्छी पर्सनल हाइजीन प्रथाओं का पालन करना अनिवार्य है। शौचालय जाने के बाद, अपने जननांग क्षेत्र को अच्छी तरह से साफ करना सुनिश्चित करें।

सूती अंडरवियर पहनें :

सूती अंडरवियर पहनना आपके लिए फायदेमंद होगा जिससे क्रॉच क्षेत्र सूखा रहेगा। उस क्षेत्र में बहुत अधिक नमी फँसाने से बैक्टीरिया के लिए एक उत्कृष्ट प्रजनन स्थल बन सकता है। इसलिए त्वचा के अनुकूल कपड़ों का ही चुनाव करें।

विटामिन सी को डाइट में शामिल करें :

विटामिन सी से भरपूर खाद्य पदार्थ खाने से प्रतिरक्षा को बढ़ावा मिलताहै और आपके मूत्र की अम्लता के स्तर में वृद्धि हो सकती है, जिससे संक्रमण पैदा करने वाले बैक्टीरिया का सफाया होता है। स्वस्थ रहने के लिए संतरा, कीवी, लाल मिर्च और अंगूर खाएं।

क्रैनबेरी खाएं :

यह यूटीआई के लिए एक शक्तिशाली उपचार है। यह फल प्रोएंथोसायनिडिन से भरा हुआ है, एक रासायनिक यौगिक जो ई. कोलाई बैक्टीरिया को मूत्राशय से जुड़ने से रोकता है, और संक्रमण के मामलों को कम करता है।

SHARE

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

1 × 1 =

Back to top button
Live TV