जिला प्रशासन खुद ही उड़ा रहा है कोविड गाइडलाइन की धज्जियां, अलीगढ़ महोत्सव में उमड़ी जबर्दस्त भीड़…

एक तरफ जहां दिन पर दिन कोरोना के मामले बढ़ते ही जा रहे हैं। रविवार को नए 7 पॉजिटिव केस समेत 24 घण्टे में 13 कोरोना के नए मामले सामने आ चुके हैं। इसी तरह की स्थिति के मद्देनजर उत्तर प्रदेश सरकार ने रात्रि कर्फ्यू भी लगा रखा है और शादी समारोह में मात्र 200 लोगों की ही परमिशन मिल पा रही है। लोग भजन, कीर्तन और जागरण जैसे आयोजन की परमिशन के लिए भटक रहे हैं। स्कूलों की छुट्टियां कर दी गई हैं। जेल में बंदियों से परिजनों की मुलाकात पर रोक लग चुकी है।

वहीं, दूसरी ओर जिला प्रशासन आंखों पर नुमाइश के जरिये कमाई की काली पट्टी बांधे हुए अलीगढ़ महोत्सव के नाम पर लोगों की जिंदगी के साथ खिलवाड़ कर रहा है। जहां बिना मास्क लगाये और सोशल डिस्टेंसिंग जैसी गाइडलाइंस की खुल कर धज्जियां उड़ाई जा रही हैं। रविवार को अलीगढ़ महोत्सव में कोहिनूर मंच पर काका सिंगर नाइट के दौरान वीआईपी कोटे में बैठे प्रशासनिक अधिकारी बिना मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग के बैठे देखे गए। वहीं, इस दौरान पंडाल में भी काफी भीड़ थी। जहां भीड़ को नियंत्रित करने के लिए पुलिस को लाठियां भी फटकारनी पड़ीं।

इस दौरान एक दारोगा ने एक युवक को जमकर पीट भी दिया। यह पूरी घटना मोबाइल कैमरा में कैद हुई है। कृषि प्रदर्शनी को अलीगढ़ महोत्सव के नाम से लगाने वाला जिला प्रशासन कोविड गाइडलाइन का प्रचार-प्रसार कर रहा है। लेकिन कोहिनूर मंच पंडाल पर बना कोविड हेल्प डेस्क खाली पड़ा होकर सोशल डिस्टेंसिंग का शिकार हो रहा है। कार्यक्रम में शामिल होने पहुँचे दर्शकों ने मास्क लगाने पर घुटन होना बताया तो वहीं, बीजेपी की पूर्व मेयर शकुंतला भारती भी बिना मास्क के नज़र आईं।

Related Articles

Back to top button
Live TV