दुनिया का सबसे बड़ा पवन-सौर हाइब्रिड पावर डेवलपर बना AGEL, राजस्थान में 450 मेगावाट हाइब्रिड पावर प्लांट शुरु…

450 मेगावाट के इस संयंत्र के सफलतापूर्वक चालू होने के साथ, AGEL की कुल परिचालन उत्पादन क्षमता लगभग 7.17 गीगावॉट हो गई है. यह AGEL को दुनिया का सबसे बड़ा पवन-सौर हाइब्रिड पावर फार्म डेवलपर भी बनाता है.

अडानी समूह की नवीकरणीय ऊर्जा शाखा, अडानी ग्रीन एनर्जी लिमिटेड (AGEL) ने राजस्थान के जैसलमेर में अपना तीसरा पवन-सौर हाइब्रिड बिजली संयंत्र चालू किया है. इस नए कमीशन किए गए हाइब्रिड पावर प्लांट की संयुक्त परिचालन उत्पादन क्षमता 450 मेगावाट है। संयंत्र का Solar Energy Corporation of India (SECI) के साथ 25 साल के लिए 2.67 रुपये प्रति किलोवाट घंटा पर बिजली खरीद समझौता (PPA) है.

420 मेगावाट सौर और 105 मेगावाट पवन संयंत्रों वाले इस नए हाइब्रिड पावर प्लांट को अत्याधुनिक तकनीक के साथ शुरु किया गया है. इस हाइब्रिड प्लांट के साथ, अडानी ग्रीन एनर्जी अब 1,440 मेगावाट उत्पादन क्षमता वाली सबसे बड़ी परिचालित हाइब्रिड पावर प्लांट बन चुका है.

इससे पहले, मई 2022 में, AGEL ने भारत के पहले 390 मेगावाट के हाइब्रिड बिजली संयंत्र का संचालन किया था. इसके बाद, सितंबर 2022 में, दुनिया के सबसे बड़े सह- अवस्थित 600 मेगावाट के हाइब्रिड पावर प्लांट को चालू किया गया. ये दोनों हाइब्रिड ऊर्जा उत्पादन संपदाएं राजस्थान के जैसलमेर में स्थित हैं.

450 मेगावाट के इस संयंत्र के सफलतापूर्वक चालू होने के साथ, AGEL की कुल परिचालन उत्पादन क्षमता लगभग 7.17 गीगावॉट हो गई है. यह AGEL को दुनिया का सबसे बड़ा पवन-सौर हाइब्रिड पावर फार्म डेवलपर भी बनाता है. नया कमीशन किया गया 450 मेगावाट का हाइब्रिड पावर प्लांट AGEL की सहायक कंपनी अडानी सोलर एनर्जी जैसलमेर वन प्राइवेट लिमिटेड में स्थित है.

Related Articles

Back to top button
Live TV