CM योगी के निर्देश पर जलशक्ति मंत्री ने किया बाढ़ ग्रस्त जिलों का हवाई सर्वेक्षण, अफसरों को दिये ये निर्देश

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर जलशक्ति मंत्री स्वतंत्र देव सिंह ने मंगलवार को हमीरपुर, जालौन, औरैया और इटावा के बाढ़ ग्रस्त इलाकों का हवाई सर्वेक्षण किया। उनके साथ राहत आयुक्त भी मौजूद थे। सर्वेक्षण के दौरान स्वतंत्रदेव सिंह ने अधिकारियों को बाढ़ पीड़ितों तक हर संभव मदद पहुंचाने के निर्देश दिये।

लखनऊ. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर जलशक्ति मंत्री स्वतंत्र देव सिंह ने मंगलवार को हमीरपुर, जालौन, औरैया और इटावा के बाढ़ ग्रस्त इलाकों का हवाई सर्वेक्षण किया। उनके साथ राहत आयुक्त भी मौजूद थे। सर्वेक्षण के दौरान स्वतंत्रदेव सिंह ने अधिकारियों को बाढ़ पीड़ितों तक हर संभव मदद पहुंचाने के निर्देश दिये। हवाई सर्वेक्षण के बाद मंत्री ने हमीरपुर, इटावा और औरैया के अधिकारियों के साथ बाढ़ प्रबंधन के कार्यों की समीक्षा की।

गांव में दवा का छिड़काव और साफ सफाई हो रोजाना

समीक्षा बैठक में जलशक्ति मंत्री ने बाढ़ प्रभावित लोगों के प्रति सीएम योगी की चिंता जाहिर की। साथ ही हमीरपुर, इटावा और औरैया के अधिकारियों को बाढ़ से प्रभावित गांव में टीमें गठित कर फॉगिंग व एंटी लार्वा दवाओं के छिड़काव कराने के निर्देश दिये। इसके साथ ही बाढ़ से प्रभावित गांव में सफाई कर्मियों की टीमें लगाकर सफाई व्यवस्था सुनिश्चित करने का आदेश दिया ताकि गांव में किसी तरह की बीमारी और संक्रमण न फैल सके। मंत्री ने डॉक्टरों के सचल दल को तैनात कर हर घर की विजिट सुनिश्चित करने को कहा। मंत्री ने बाढ़ से मकान और फसल को हुए नुकसान का आंकलन कर प्रभावित परिवारों को राहत राशि तत्काल प्रदान करने के निर्देश दिये। वहीं शासकीय इंफ्रास्ट्रक्चर सिंचाई परिसंपत्तियां, रोड, पंचायत घर, विद्यालय आदि की क्षति के सर्वे के लिए टीम गठित कर जल्द से जल्द रेस्टोरेशन कार्य कराया जाये।

बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में भोजन पैकेट और खाद्य सामग्री उपलब्ध करा रही है सरकार

हमीरपुर और इटावा में करीब डेढ़ सौ से अधिक गांव बाढ़ से प्रभावित हुये हैं, जिनमें से 55 गांव की आबादी प्रभावित हुई है। बाढ़ प्रभावित गांवों के 3630 लोगों को अस्थायी बाढ़ शरणालय में रखा गया। उन्हें रोजाना भोजन पैकेट, खाद्य सामग्री उपलब्ध कराई जा रही है। इसके साथ एसडीआरएफ की टीमें तथा पीएसी की प्लाटून बाढ़ बचाव व राहत कार्यों में लगाई गई हैं। इसके अलावा बाढ़ राहत कार्यों के लिए नौकाएं तथा निजी गोताखोर चिन्हित किये गये हैं। वहीं मेडिकल टीमों व सचल चिकित्सीय दल द्वारा क्लोरीन की गोलियों के साथ ओआरएस पैकेटों का वितरण किया जा रहा है।

Related Articles

Back to top button
Live TV