इन दो देशों में RuPay पेमेंट ऐप को मिली मान्यता, वित्त मंत्री ने अमेरिका में संबोधन के दौरान दी जानकारी

केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष और विश्व बैंक की सलाना बैठक में भाग लेने के लिये अमेरिका गयी हुयी हैं

केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष और विश्व बैंक की सलाना बैठक में भाग लेने के लिये अमेरिका गयी हुयी हैं। निर्मला सीतारमण ने अमेरिका में ब्रुकिंग्स इंस्टीट्यूशन द्वारा आयोजित एक सभा को संबोधित किया। संबोधन के दौरान निर्मला सीतारमण ने सिंगापुर और संयुक्त अरब अमीरात में भारत के रुपे (RuPay) पेमेंट सिस्टम को मान्यता मिलने की बात कही।

डिजिटल पेमेंट व आर्थिक क्षेत्र में धीरे-धीरे भारत की स्वीकार्यता अब वैश्विक स्तर पर बढ़ रही है। अपने छह दिवसीय अमेरिकी दौरे के दौरान वित्त मंत्री ने ब्रुकिंग्स इंस्टीट्यूशन के संबोधन में कहा कि अब भारत के रूपे पेमेंट सिस्टम को अब सिंगापुर और संयुक्त अरब अमीरात में मान्यता मिल गई है। अब इन दोनों देश के नागरिक रूपे कार्ड के जरिए डिजिटल पेमेंट कर सकेंगे। वहीं और भी अन्य देशों में इसकी मान्यता के लिए भारत सरकार लगातार संपर्क में है। ब्रुकिंग इंसिटीट्यूट के थिंक टैंक प्रोग्राम में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने मोदी सरकार की महत्वाकांक्षी ‘आत्मनिर्भर भारत’ परियोजना के बारे में भी चर्चा की।

वित्त मंत्री ने कहा इस योजना को गलत तरीके से पेश किया जाता है। इसका लक्ष्य भारत सकल घरेलू उत्पाद में अपना विनिर्माण बढ़ाना है जिससे कुशल और अर्धकुशल दोनों वर्गों के लिए रोजगार पैदा होगा। इसी नीति से निर्माण क्षेत्र को बढ़ावा मिला है जिससे कुशल व अर्धकुशल दोनों को ही रोजगार मिला है। निर्मला सीतारमण ने आगे कहा कि आत्मनिर्भर भारत का मकसद रोजगार पैदा करना है, दुनिया से अलग-थलग होना नहीं। साथ ही संबोधन में उन्होंने भारत में सकल घरेलू उत्पाद में विनिर्माण बढ़ाने को लेकर भी बात कही। वित्त मंत्रालय के मुताबिक वित्तमंत्री की यह यात्रा 11 अक्टूबर से 16 अक्टूबर तक के लिये तय है। यात्रा के दौरान वह विश्व बैंक की सालाना बैठकों, जी-20 समूह के वित्त मंत्रियों और केंद्रीय बैंकों के गवर्नरों (एफएमसीबीजी) की बैठकों में शामिल होंगी।

Related Articles

Back to top button