भारत सरकार ने उठाया यह बड़ा कदम, चीन-पाकिस्तान को ऐसे मिलेगा मुहतोड़ जवाब

साल 2022 के शुरुआत में भारत सरकार ने देश के उत्तर और पूर्वी सीमा पर रूस से खरीदी गयी S-400 की दो रेजिमेंट तैनात करेगी। चीन के उकसाऊ रवैये को देखते हुए भारत की नरेंद्र मोदी सरकार ने यह फैसला किया है। पूर्वी सीमा पर चीन द्वारा उत्पन्न की जा रही चुनौती से निपटने के लिए तो वहीं उत्तरी सीमा पर पाकिस्तान और चीन दोनों से सुरक्षा चुनौतियों के लिहाजा यह कदम उठाने का निर्णय लिया गया है।

भारत सरकार का यह निर्णय मई 2020 में 1,597 किलोमीटर लंबी लद्दाख लाइन ऑफ कंट्रोल (LAC) पर चीन की पीपल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) के उल्लंघन के बाद अंततः सेना के सामने आने वाले सामरिक नुकसान को संतुलित करेगी। मॉस्को में भारत के राजनयिकों के अनुसार, अगले महीने से गहरे पैठ वाले राडार से युक्त उन्नत एस-400 मिसाइल प्रणाली भारत में आना शुरू हो जाएंगे।

दरअसल, लद्दाख और अरुणाचल प्रदेश LAC पर चीन द्वारा भी रूसी प्रणाली वाली S-400 को तैनात किया गया है। ऐसे में इस चुनौती को ध्यान में रखते हुए यह फैसला लिया गया है। रक्षा सूत्रों के अनुसार पूर्वी और उत्तरी सीमा पर तैनात किये जाने वाले S-400 की दोनों रेजिमेंट साल 2022 की शुरुआत तक कार्यरत हो जाएंगे। रूस में प्रशिक्षित दो भारतीय सैन्य दल S-400 प्रणाली को संचालित करने के लिए तैयार हैं। इस प्रणाली की पहुंच दुश्मन के इलाके में करीब 400 किलोमीटर तक है।

SHARE

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

thirteen + 18 =

Back to top button
Live TV