रेवड़ी कल्चर’ पर चुनाव आयोग सख्त, EC ने पार्टियों को लिखी चिट्ठी, कहा- जनता से किये वादों के लिए कहा से लाएंगे पैसा

चुनाव आयोग ने चुनावी वादों को लेकर सभी राजनीतिक दलों को चिट्ठी लिखी है। चिट्ठी में चुनाव आयोग ने कहा है कि राजनीतिक पार्टियां अपने घोषणापत्र में वोटर्स को किये वादों के बारे में सटीक जानकारी दें। साथ ही चुनाव आयोग्य ने कहा जो वादे राजनीतिक पार्टियां अपने घोषणापत्र में कर रही उसको पूरा करने के लिए वित्तीय संसाधन हैं भी या नहीं?

चुनाव आयोग के मुख्य निर्वाचन आयुक्त राजीव कुमार और आयुक्त अनूप चंद्र पांडेय की अगुवाई में हुई बैठक में ये तय किया गया है कि घोषणा पत्र ज्यादा वास्तविक और व्यावहारिक हो। उसमे वादें हवा हवाई न हो। यानी घोषणा पत्र वित्त आयोग, भारतीय रिजर्व बैंक, FRBM, CAG आदि की गाइड लाइन के आधार पर बने।

बता दें कि चुनाव में रेवड़ी कल्चर’ पर चुनाव आयोग सख्त हुआ है। चुनाव के समय राजनीतिक पार्टियां वोटर्स को लुभाने के लिए बहुत से ऐसे वादें करती है जिसकी सटीक जानकारी वोटर्स को नहीं होती है और वोटर्स पार्टियों के वादों के चक्कर उसे वोट कर देती है। इस मामले में आयोग ने कहा कि हम इस मुद्दे पर आंख मूंदे नहीं रह सकते हैं। अगर राजनीतिक दल सिर्फ खोखले वादे कर रहे हैं, तो इसके दूरगामी असर होंगे। चुनाव आयोग ने मामले में राजनीतिक दलों से 19 अक्तूबर तक राय माँगी है।

Related Articles

Back to top button