कर संग्रह में नए रिकॉर्ड रच रही योगी सरकार, सुरेश खन्ना बोले- प्रदेश लक्ष्य के सापेक्ष राजस्व वसूली बढ़ी…

वित्तमंत्री सुरेश खन्ना ने प्रेस कांफ्रेंस के दौरान आगे कहा कि प्रदेश के लक्ष्य के सापेक्ष अधिक राजस्व प्राप्ति हुई. केवल आबकारी विभाग को छोड़ दें तो लगभग अधिकांश विभागों से पिछले वित्तीय वर्ष के मुकाबले अत्यधिक राजस्व वसूला गया है. चाहें वह परिवहन विभाग हो, जीएसटी और वैट से कर संग्रह हो या भूतत्व एवं खनिकर्म विभाग, इन सभी विभागों से इस वर्ष बड़ी संख्या में कर संग्रह किया गया है.

गुरूवार को वित्त एवं संसदीय कार्यमंत्री सुरेश खन्ना ने प्रेस कांफ्रेंस करके बीते छह महीने में प्रदेश की योगी सरकार की उपलब्धियों को गिनाया. इस दौरान उन्होंने प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित करते हुए राज्य में कर वसूली संबंधित आंकड़े रखे. उन्होंने कहा कि हमारी सरकार राजस्व वसूली में नए रिकॉर्ड कायम कर कर रही है. वित्त मंत्री ने कहा कि पिछले साल की तुलना में इस साल 3100 करोड़ रुपये से भी अधिक कर की वसूली की गई है.

पेट्रोलियम के जरिए वैट, आबकारी और जीएसटी में बंपर वसूली से राज्य के विकास में सहयोग मिलेगा. अलग-अलग मदों में राजस्व वसूली के आंकड़े रखते हुए वित्त एवं संसदीय कार्यमंत्री सुरेश खन्ना ने आगे कहा कि कर-करेत्तर राजस्व मदों में 3123.73 करोड़ रुपयों की वृद्धि हुई है. उन्होंने कहा कि जीएसटी और वैट की वसूली में बड़ी वृद्धि हुई है. इसके अलावा परिवहन विभाग में भी लगभग 73.20 करोड़ राजस्व की वृद्धि दर्ज की गई है.

वित्तमंत्री सुरेश खन्ना ने प्रेस कांफ्रेंस के दौरान आगे कहा कि प्रदेश के लक्ष्य के सापेक्ष अधिक राजस्व प्राप्ति हुई. केवल आबकारी विभाग को छोड़ दें तो लगभग अधिकांश विभागों से पिछले वित्तीय वर्ष के मुकाबले अत्यधिक राजस्व वसूला गया है. चाहें वह परिवहन विभाग हो, जीएसटी और वैट से कर संग्रह हो या भूतत्व एवं खनिकर्म विभाग, इन सभी विभागों से इस वर्ष बड़ी संख्या में कर संग्रह किया गया है.

उन्होंने कहा कि अकेले परिवहन विभाग में 73.20 करोड़ राजस्व वृद्धि राजस्व की वृद्धि दर्ज की गई है. वित्त मंत्री ने बताया कि वित्त वर्ष 2021-22 के दौरान सितम्बर माह में 11538.16 करोड़ राजस्व की प्राप्ति हुई थी. जबकि वित्त वर्ष 2022-23 के दौरान सितम्बर महीने में यह कर संग्रह बढ़कर 14661.89 करोड़ रूपया हो गया है जो राज्य के विकास को और गति देने में सहायक साबित होगा.

Related Articles

Back to top button