मेघालय : 13 दिसंबर को भारत-बांग्लादेश के जवान संयुक्त रूप से मनाएंगे 1971 के युद्ध की 50 वीं वर्षगांठ

सीमा सुरक्षा बल (BSF) के एक अधिकारी ने शनिवार को कहा कि 1971 के युद्ध में पाकिस्तान पर भारत की जीत की 50 वीं वर्षगांठ मनाने के लिए, BSF और उसके समकक्ष बॉर्डर गॉर्डस बांग्लादेश (BGB) 13 दिसंबर को मेघालय में एक संयुक्त सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन करेंगे। बांग्लादेश की सीमा से लगे शहर दावकी में एकीकृत चेक पोस्ट (ICP) पर आयोजित होने वाले इस संयुक्त सांस्कृतिक कार्यक्रम में “मुक्ति योद्धाओं”, इतिहासकारों और दोनों देशों के प्रख्यात वक्ताओं को आमंत्रित किया जाएगा।

मेघालय बीएसएफ फ्रंटियर के महानिरीक्षक इंद्रजीत सिंह राणा ने कहा, ”1971 के युद्ध के बाद बांग्लादेश का जन्म हुआ था। BSF ने शुरू से ही बांग्लादेश के 1971 के मुक्ति युद्ध में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाई और भारतीय सेना के साथ कंधे से कंधा मिलाकर लड़ाई लड़ी।” उन्होंने कहा कि बीएसएफ की तेईस इकाइयों को सेना के संचालन नियंत्रण में तैनात किया गया था और उन्होंने स्वतंत्र रूप से और सेना के साथ मिलकर भी दुश्मन के ठिकानों के खिलाफ रक्षात्मक और आक्रामक दोनों तरह की कार्रवाई में अपनी क्षमता का प्रदर्शन किया था।

बीएसएफ के आईजी ने कहा कि भारत ने मुक्ति योद्धाओं को व्यापक सहायता, प्रशिक्षण और आश्रय प्रदान किया, जो बांग्लादेश मुक्ति संग्राम के दौरान पाकिस्तानी सेना से लड़ रहे थे।बीएसएफ के अनुसार, 19 मार्च, 1972 को भारत-बांग्लादेश मैत्री, सहयोग और शांति संधि पर हस्ताक्षर के साथ दोनों देशों के बीच संबंधों को और मजबूत किया गया था। इस समझौते को इंदिरा-मुजीब संधि के रूप में भी जाना जाता है। भारत और बांग्लादेश एक दूसरे के साथ 4096 किलोमीटर लंबी अंतरराष्ट्रीय सीमा साझा करते हैं, जिसकी निगरानी भारत की ओर से BSF और बांग्लादेश की तरफ से बॉर्डर गार्ड बांग्लादेश (BGB) करती है।

SHARE

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

13 + 1 =

Back to top button
Live TV